LISTEN ONLINE   |  email: info@radiomadhuban.in  |  Call: +91-2974-228888            

पारिवारिक प्रष्ठभूमि - पूजा जी अनुसूचित जनजाति समुदाय से तैल्लुक रखती हैं, उनका परिवार में सभी खेती और मजदूरी से ही जीवन यापन करते है | पूजा के पति व् ससुर खेती व् दिहाड़ी के लिए जाते है वैसे तो पूजा का मायका गुजरात में है और उन्होंने वहीँ आठवी तक पढाई की और फिर शादी के बाद राजस्थान आ गई |

राजनितिक – पूजा के परिवार का राजनीति से कभी कोई सम्बन्ध नही रहा पूजा शादी के बाद राजस्थान असावा गाव में रहने के लिए आ गई २०१५ में सरपंच के चुनावो से पहले उनका गाव नए पंचायत में आ गया और सनवाडा ग्राम पंचायत अलग से बनायीं गयी जहाँ सरपंच सिट अनुसूचित जनजाति की महिलाओं के लिए आरक्षित हुई | गाव के एक अध्यापक को पता लगा की पूजा गुजरात से आठवी पास है तब गाव वालो ने पूजा के परिवार से संपर्क किया पूजा के घरवाले व् स्वयं पूजा नही जानते थे की सरपंच वार्ड पंच ये सब क्या है और उन्होंने साफ मना कर दिया लेकिन अध्यापक के काफी समझाने व् गाँव वालो को ये कहने की उसके पति को भी वार्ड पंच बना देंगे तब पूजा के घरवाले तयार हुए और पूजा सनवाडा ग्राम पंचायत की पहली सरपंच बन गई सरपंच बनने के बाद पूजा wlw में आध्यापक के कहने से ही आई wlw में पूजा को समझ आया की पंचायत क्या होती सरपंच को क्या करना है कितना महत्वपूर्ण पद है यह | उसके बाद भी पूजा कई कार्यशालाओं में आई  wlw के बाद पूजा ने स्वयं जाना सुरु किया पंचायत के कामकाज को और अधिक समझने के लिए उप सरपंच व् संस्थान की समय समय पर मदद ली नई ग्राम पंचायत होने के कारन पूजा के सामने कई समस्याए | ग्राम पंचायत का भवन नही होना तो पूजा ने मर्ज़ हुए स्कूल में पंचायत का कार्यालय बनाया उसमे पोधारोपन किया पानी की व्यस्था की और अटल सेवा केंद्र के निर्माण के लिए सभी जिला लेवल के अधिकारियो के संपर्क में है गाव के लोग कहते है जो पूजा सरपंच का मतलब नही जानती थी वो पूजा आज गाव के लिए कितना कुछ कर रही है | 

सरपंच पूजा के कार्यकाल में हुए कुक कम-

  • 17 cc रोड
  • 28 bpl परिवारों को गेस कनेक्सन
  • पुरे पंचायत क्षेत्र में बेटी के जन्म पर पोधारोपन
  • 13 पसु एल
  • 27 विधवा महिलाओ को पेंसन
  • 17 सामाजिक सुरक्षा पेंसन
  • 6 निशक्त जन पेंसन
  • 12 हेद्पुम्प रिपेयरिं
  • 3 खाद्य सुरक्षा में नाम जुडवाना
  • नाली निर्माण
  • 3 रपट
  • 13 बालिकाओं को विद्यालय से जोड़ना
  • 2 बाल विवाह रुकवाना
  • 4 परिवारों को बिजली कनेक्सन
  • 14 परधानमंत्री आवास में मकान
  • 7 परिवारों को पत्ते दिलवाना

पूजा अब अपना काम खुद करती है और कहती है की में चाहती हूँ की जब गाव की पहली सरपंच का जिक्र हो तो मेरा नाम मेरे काम की वजह से याद् किया जाए | पूजा कहती है अब मुझे इसमें मजा आने लगा है की सरपंच बनने के बाद कितना कुछ सिखा और किया है जो अगर में सरपंच नही होती तो कभी कुछ नही कर पाती | 

#story2